UA-166045260-1 कुरआन की तिलावत के दौरान सज्दा जरूरी है या नहीं? - Islamic Way Of Life

Latest

A website for Islamic studies, Islamic History , Islamic teachings , Islamic way of Life , Islamic quotes, Islamic research , Islamic books , Islamic method of prayers, Islamic explanation of Quran, Islamic Hadith, Islamic Fatwa and truth of Islam.

Sunday, 28 March 2021

कुरआन की तिलावत के दौरान सज्दा जरूरी है या नहीं?

 कुरआन की तिलावत के दौरान सज्दा जरूरी है या नहीं?


कुरआन की तिलावत के दौरान सज्दा जरूरी है या नहीं?


कुरआन की तिलावत के दौरान कुल 15 सजदे हैं लेकिन अमूमन 14 सजदे ही दर्शाए गए हैं। "सुरह साद" के सजदे के बारे में इब्ने अब्बास रजि. से रिवायत है, उन्होंने फरमाया कि "सुरह साद" का सजदा जरूरी नहीं है। अलबत्ता मैंने नबी ﷺ को इसमें सजदा करते देखा है। निसाई में है कि रसूल ﷺ ने "साद" के सजदे के बारे में फरमाया, हज़रत दाऊद अलैहिस्सलाम का यह सजदा तौबा के लिए था और उनकी पैरवी में हम शुक्र के तौर पर सजदा करते हैं।
सज्दों का विवरण नीचे दिया गया है।
01:- 9वें पारा में 14वें रुकु के पास ( Surah Al Araf Ayat 206)
02:- 13वें पारा में 7वें और 8वें रुकु के बीच ( Surah Ar Rad Ayat 15)
03:- 14वें पारा में 12वें रुकु के पास ( Surah Al Nahl Ayat 50)
04:- 15वें पारा में 11वें और 12वें रुकु के बीच ( Surah Al Bani Israel Ayat 109)
05:- 16वें पारा में 6ठे और 7वें रुकु के बीच ( Surah Maryam Surah 58)
06:- 17वें पारा में 8वें और 9वें रुकु के बीच ( Surah Al Hajj Ayat 18)
07:- 17वें पारा में 16वें और 17वें रुकु के बीच ( Surah Al Hajj Ayat 77)
08:- 19वें पारा में 3रे रुकु के पास ( Surah Al Furqan Ayat 60)
09:- 19वें पारा में 16वें और 17वें रुकु के बीच ( Surah An Naml Ayat 26)
10:- 21वें पारा में 14वें और 15वें रुकु के बीच ( Surah As Sajdah Ayat 15)
11:- 24वें पारा में 18वें और 19वें रुकु के बीच (Surah Fussilat/ Ha mim Ayat 38)
12:- 27वें पारा में 7वें रुकु के पास (Surah An Najm Ayat 62)
13:- 30वें पारा में 9वें रुकु के पास (Surah Al Inshiqaq Ayat 21)
14:- 30वें पारा में 21वें रुकु के पास ( Surah Al Alaq Ayat 19)
15:- 15वां सजदा सूरह साद में है जो कि जरूरी नहीं है। 
अब्दुल्लाह बिन मसऊद रजि. से रिवायत है उन्होंने फरमाया की नबी ﷺ ने मक्का मुकर्रमा में सूरह नज़्म तिलावत की तो सजदा फरमाया, आपके साथ जो लोग थे,उन सबने सजदा किया, एक बूढ़े आदमी के अलावा, कि उसने एक मुट्ठी भर कंकरियां या मिट्टी लेकर अपनी पेशानी तक उठाई और कहने लगा,मुझे यही काफी है। उसके बाद मैंने देखा वह कुफ्र को हालत में मारा गया। तिलावत के सजदे ज्यादातर इमामों के नजदीक सुन्नत हैं। 
तिलावत के सजदों में यह दुआ पढ़नी चाहिए।
"सजदा वजहिया लिल्लजी खलकहू व शक्का समअहू व बसरहू बिहौलेही व कुव्वतेही "

No comments:

Post a comment

Please do not enter any spam link in comment box.