UA-166045260-1 ये 4 ऐप्स भूलकर भी ना करें डाउनलोड - Islamic Way Of Life

Latest

A website for Islamic studies, Islamic History , Islamic teachings , Islamic way of Life , Islamic quotes, Islamic research , Islamic books , Islamic method of prayers, Islamic explanation of Quran, Islamic Hadith, Islamic Fatwa and truth of Islam.

Friday, 3 December 2021

ये 4 ऐप्स भूलकर भी ना करें डाउनलोड

ये 4 ऐप्स भूलकर भी ना करें डाउनलोड



अगर आपका बैंक में खाता है और अपना पैसा सुरक्षित रखना चाहते हैं तो इन चार मोबाइल एप्लीकेशन से सावधान रहें, वरना ठग आपके बैंक खाते को खाली कर देंगे। साइबर ठग "एनी डेस्क, क्विक सपोर्ट, टीम व्यूवर, मिंगल व्यू ऐप पर ठगी कर रहे हैं। 
जो खाताधारक इसमें चूका उसका खाता खाली होने में देर नहीं लगेगी। ऐसे में लोग भूलकर भी किसी अनजान व्यक्ति के कहने पर इन एप्लीकेशन को मोबाइल में अपलोड न करें। इसको लेकर SBI ने गाइडलाइन जारी कर अपने खाताधारकों को अलर्ट भी किया है। 
यह सभी खाताधारकों के लिए है। साइबर एक्सपर्ट लोगों को ऐप को डाउनलोड करने से परहेज करने की सलाह दे रहे हैं। देशभर में ऐसे कई मामले आ चुके हैं,जिसमे जालसाजों ने इसी तरह के एप्लीकेशन मोबाइल में डाउनलोड कराकर लोगों के खाते से पैसे उड़ा दिए हैं। 
इस साल साइबर जालसाजी के लगभग 30 हजार मामले सामने आ चुके हैं। जालसाजों ने लोगों को फोन कर खतोंनकी डिटेल मांगी या डेबिट कार्ड की अवधि खत्म होने की बात कर उसका चार अंकों का सीबीसी अंक मांगा। इससे लोगों को अपना शिकार बनाया। अब मोबाइल में एनिडेस्क ऐप डाउनलोड करवा रहे हैं। जो इनके झांसे में फंसा उसका अकाउंट खाली कर दे रहे हैं।
राहत की बात यह रही कि भुक्तभोगी समय से पुलिस के साइबर सेल के पास पहुंच जा रहे और कुछ मामलों में पैसे उनके खाते में आ गए। तकनीकी युग में खतरा बढ़ गया है।
अधिकांश लोग आजकल मोबाइल पेमेंट व ऑनलाइन बैंकिंग का इस्तमाल कर रहे हैं।इससे बैंक में लाइन लगाने की झंझट से मुक्ति तो मिल गई है लेकिन खतरा भी बढ़ गया है। साइबर जालसाज खाताधारक के नंबर पर फोन करके खुद को बैंक अथवा ऑनलाइन मार्केटिंग कंपनी का कर्मी बताते हैं। खाताधारकों को रिवार्ड देने या अन्य बहाने से मोबाइल में एनिडेस्क ,टीम व्यूवर, मिंगल व्यू व क्विक सपोर्ट एप्लीकेशन डाउनलोड करवा देते हैं। इससे मोबाइल में मौजूद खाते की जानकारी उन्हें प्राप्त हो जाती है। इसके बाद भुक्तभोगी के खाते से पैसे निकाल लेते हैं। 

No comments:

Post a Comment

Please do not enter any spam link in comment box.