UA-166045260-1 इतिहास का सबसे बुरा साल - Islamic Way Of Life

Latest

A website for Islamic studies, Islamic History , Islamic teachings , Islamic way of Life , Islamic quotes, Islamic research , Islamic books , Islamic method of prayers, Islamic explanation of Quran, Islamic Hadith, Islamic Fatwa and truth of Islam.

Sunday, 6 February 2022

इतिहास का सबसे बुरा साल

 इतिहास का सबसे बुरा साल

साल 536 A.d. को इतिहास का सबसे खराब साल माना जाता है। इसी साल को Dark ages भी कहा जाता है।



इसी साल में इंसानों के लिए जीना बेहद मुश्किल था,चाहे आप आम नागरिक को या किसी शाही राजमहल से ताल्लुक रखते हों। अब आपके मन में यह सवाल होगा कि आखिर साल 536 A.D मे ऐसा क्या हुआ था जिसके कारण इतिहासकार इस वर्ष को इतिहास का सबसे बुरा साल मानते हैं? आज हम Dark ages के बारे में विस्तार से जानकारी लेंगे।


536 A.D को इतिहास का सबसे खराब साल क्यों कहा जाता है?


दरअसल इसी साल अचानक यूरोप,मिडल ईस्ट और एशिया के कुछ भागों में अंधकार छा गया, हर जगह अंधेरा जैसा हो गया लगभग आधी धरती पर अंधकार छा गया था। यह अंधकार कहां से आया था,किसी को नहीं पता क्योंकि उस समय विज्ञान इतना तेज नहीं था। अंधेरा होने की वजह से दिन हो या रात एक जैसा ही हो गया था। लोगों को सूरज केवल चांद जैसा दिखाई देने लगा था यह लोग अपनी परछाई तक नहीं दे पा रहे थे।


फसलें बर्बाद हो गई, भुखमरी आ गई!


सूरज ना होने की वजह से तापमान गिर गया जिससे गर्मियों में भी कड़ाके की ठंड हो गई। ठंड इतनी ज्यादा बढ़ गई कि चाइना में गर्मियों में भी बर्फ गिरने लगी है और इतनी ज्यादा ठंड से कि 2000 साल का रिकॉर्ड टूट गया यानी कि 2000 साल में सबसे ज्यादा ठंड उसी समय हुई थी।फसलें तबाह हो गई यह सिलसिला करीब 18 महीने चला।अन्न का एक दाना तक नहीं हुआ इससे भुखमरी आ गई, लोग भूख के मारे धीरे-धीरे मरने लगे।


18 महीने बाद अंधकार तो साफ हो गया लेकिन समस्या अभी भी हल नहीं हुई थी बल्कि समस्याओं की शुरुआत हुई थी। इसके कुछ साल बाद 541 A.D में ईस्टर्न रोमन में जस्टिन का प्लेग फैल गया था। जिससे वहां की एक तिहाई आबादी खत्म हो गई दरअसल इस बीमारी के फैलने का मुख्य कारण यह था कि सूरज की किरणें ना होने की वजह से लोगों में विटामिन-D की कमी हो गई, जिससे उनका रोग प्रतिकारक शक्ति भी कम हो गया था और इस बीमारी ने उनको बहुत जल्द अपने चपेट में ले लिया और वहां के लोगों की मौत होने लगी, हालत इतनी खराब थी कि रोज जिस तरह कचरा उठाने वाली गाड़ी आती है उसी तरह लाशें उठाने वाली गाड़ी आने लगी और वे सभी लाशों को समुद्र में फेंक देते थे। जिससे बीमारी का प्रकोप भी बढ़ गया था।


इस महामारी को जस्टिनियन का प्लेग के रूप में जाना जाता है।


उस समय इतना भयानक समय था कि हर जगह मौत का मातम है लोगों को यहां यकीन हो गया था कि अब दुनिया का अंत तय है।


साल 536 के हुए इस घटना से एक नहीं अनेकों ऐसी आपदा उत्पन्न हुई जिससे यूरोप को उभरने में लगभग एक सदी लग गई।

536 A.D. में धुंध कहां से आई थी?

कई दशकों तक यह एक पहेली थी कि आखिर उस समय धुंध कहां से आई? यह कोई प्राकृतिक आपदा थी या शैतान का प्रकोप? लोगों को इसके बारे में कोई पता नहीं था। मगर वैज्ञानिकों ने अपने रिसर्च में यह पाया कि उस समय आइसलैंड में मौजूद एक विशाल ज्वालामुखी में विस्फोट हुआ था। जिससे करीब आधी दुनिया पर ज्वालामुखी का धुआं और राख वातावरण में मिल गया था ।


प्रोकोपिस जो उस समय के इतिहासकार थे उनका कहना था कि वह समय ऐसा था कि सूरज तो सिर्फ चांद बनकर रह गया था। धूप का तो नाम भी नहीं था हर जगह मौत ही नजर आ रही थी।


कुल मिलाकर देखा जाए तो उस समय जिंदगी नर्क समान थी। कहीं कोई उम्मीद की किरण नहीं थी। हर जगह मौत दुख ही फैला हुआ था। इसीलिए इतिहासकारों के अनुसार साल 536A.D. इतिहास का सबसे खराब साल माना गया है। जिसे बहुत से लोग डार्क एज के नाम से भी जानते हैं।


1 comment:

  1. Video games are extra well-liked right now than they ever have been, and their affect continues to grow. For on line casino recreation makers, 온라인 카지노 that is translated right into a monthly audience more than three and a half instances larger than the plenty who visited Las Vegas in all of final year. When selecting free slots, first a glance at|have a glance at} the paytable to see how generous the payouts are. You also can evaluate the biggest and smallest jackpots to gauge the slot’s variance.

    ReplyDelete

Please do not enter any spam link in comment box.